पोस्टल विभाग के जरिए दुकानदार बनी सरकार

-अब डाक टिकट पर छपेगी आपकी फोटो,माई स्टाम्प योजना शुरू

-डाकघर में मिलेगें अब एलईडी ट्यूब, पंखे,गंगा जल,किताब, व ए.सी

बिहारशरीफ।ग्राहकों को अपने आपसे जोड़ने की अनूठी पहल के बीच डाक विभाग अब दुकानदार की भूमिका में दिखेगी।मॉल व सुपर मार्किट के प्रतिस्पर्धा में अब डाक विभाग भी पीछे नहीं है।अब यहां डाक टिकट की ही नहीं बल्कि ग्राहकों के रोजमर्रा में प्रयोग होने वाली सामानों को भी डाक विभाग बेचेगी।गोल्ड के व्यपार के बाद एलईडी बल्ब, ट्यूब, पंखे,गंगा जल,अगरबत्ती, किताब,7 स्टार ए.सी भी बिकेगी।इतना ही नहीं गुरुवार को शुरू किए गए माई स्टांप योजना भी ग्राहकों को जोड़ने में मददगार साबित होगी।पूर्वी प्रक्षेत्र के पोस्ट मास्टर जनरल अनिल कुमार ने कहा कि डाक टिकट संग्रह एक मनोरंजक एवं ज्ञानवर्धक शौक है। डाक टिकटों का संग्रह हमें इतिहास व अपने गौरव से अवगत कराता है। यह ऐसी योजना है जो अपने प्रिय जनों की याद को डाक टिकटों के जरिये संजोने का अवसर प्रदान करता है। सहायक डाक अधीक्षक ने बताया कि कोई भी व्यक्ति 300 रुपये खर्च कर अपनी अथवा अपने किसी परिजन की फोटो वाला डाक टिकट जारी करवा सकते हैं जिसका उपयोग वे डाक भेजने अथवा विशेष अवसर के लिए कर सकते हैं। 300 रुपये में 12 टिकट बनाए जाते हैं ।राशि जमा होने के दो दिन बाद आप अपनी फोटो डाक टिकट डाकघर से प्राप्त कर सकते हैं। माई स्टांप योजना की खास बात यह है कि फोटो युक्त डाक टिकट में बैक ग्राउंड भी होगा।अभी तक हम डाक टिकट पर देश के महापुरुषों और दुर्लभ चीजों के साथ ही महत्वपूर्ण स्थानों की फोटो देखते रहे हैं। अब हम चाहें तो इनके साथ अपनी फोटो का डाक टिकट जारी करा सकते हैं।साथ ही एक कप भी दिया जाएगा।विभाग के अन्य प्रोडक्ट की जानकारी देते हुए पोस्टल असिस्टेन्ट राकेश रंजन कुमार ने बताया कि अगले सीजन में 7 स्टार ए.सी भी ग्राहकों के लिए उपलब्ध होगी।500 एमएल गंगोत्री जल की कीमत 35 रुपए,200 एमएल का 28 रुपए,500 एमएल ऋषिकेश के गंगा जल की कीमत 22 रुपए,200 एमएल का 15 रुपए, एलईडी ट्यूबलाइट की कीमत 220 रुपये व एलईडी फैन की कीमत 1200 रुपए है जबकि एसी कितने में बिकेगी उसका निर्धारण अभी नहीं हुआ है।पतंजलि के प्रोडक्ट व कॉस्मेटिक प्रोडक्ट भी उपलब्ध होगा।आधार अपडेशन का काम शुरू हो गया है जबकि आधार कार्ड बनाने का काम इस माह तक शुरू हो जाएगा।

Top
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.