योगी खामोश क्यों है ?

बिहार अभ्युदय।ये आपकी यूपी है योगी साहब।आप सीएम है यहां के।आपके रोमियो स्क्वाड की हेडिंग पढ़ पढ़कर कई चैनलों का टीआरपी बढ़ गयी थी। लोगों को लगा यूपी में बदलाव दिखेगी लेकिन यहां ‘भोगियों’ की भूख अधिक बढ़ गयी।आखिर हर दिन छेड़खानी हो ही रहे हैं लेकिन यूपी क्यों शांत हो गई है। क्या ये सब चुनाव के लिए था। तब बलात्कार व छेड़खानी की हर दूसरी घटना पर नेता का बयान आता था, कोई नेता किसी पीड़िता के घर जाया करता था, आज वो सब क्यों बंद है। क्या इसके खिलाफ लड़ाई बंद हो गई है। क्या इसकी जवाबदेही पूछने का सवाल खत्म हो गया है। क्या हमारे सवालों का भी किसी ने गला घोंट दिया है।उत्तर प्रदेश के रामपुर में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली घटना सामने आई । यहां एक गांव में करीब दर्जनभर लोगों ने ना केवल दो लड़कियों के साथ छेड़खानी की बल्कि घटना का वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर वायरल भी कर दिया।?एक आरोपी की बात सुन रहा था।रिपोर्टर ने पूछा,क्या यह अनजाने में हुआ है ?आरोपी ने कहा,हां।फिर विश्लेषण का दौर शुरू हो गया।मुझे तो लगा कि वो बताएगा कि जिस तरह उस लड़की को उसने गोद मे उठाया,वह हर दिन अपनी बहन को भी ऐसे ही उठाकर छेड़ता है।इसलिए यह आदत बन गयी।आज तक ऐसी मुद्दे राष्ट्रीय शर्म का मुद्दा नहीं बन पाया।गाय से लेकर चाय तक पर चर्चा हो गयी।सवाल यह नहीं है कि यह घटना किस राज्य में हुई है।सवाल यह है कि समाज कब सुधरेगा।लोग दलीय व धार्मिक आस्थाओं की भावनाओं में बहकर इस मुद्दे पर भी अपनी निजी राय को आस्था व दल से जोड़कर देने से नहीं हिचकेंगे।

Top
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.