बेटी की तरह ‘ माँ ‘ को दी गयी विदाई

बिहारशरीफ।हमनी के छोड़ी के नगरिया नू हो,कहवा जइबू ऐ माई।इन्हीं अहसासों के साथ शहरवासियों ने माता रानी को एक बेटी की तरह नम आँखों से विदाई दी।पौराणिक परंपरा के अनुसार मंत्रोच्चार के बीच माता को खोइंछा दी गयी। यह भावपूर्ण दृश्य देख महिला व पुरुष श्रद्धालुओं की आंखें डबडबा गयीं।पूरे शहर में मां दुर्गा की प्रतिमाओं का विसर्जन शाम तक चलता रहा। जिला प्रशासन के द्वारा सुरक्षा के सख्त इंतिज़ाम किए गए थे।खुद डीएम डॉ. त्यागराजन व एसपी सुधीर कुमार पोरिका पूरे जुलूस का जायजा लेते रहे।एसडीओ सुधीर कुमार,डीएसपी निशित प्रिया,डीएसपी इमरान परवेज़,डीएसपी विजय कुमार सहित सभी थानों के थानाध्यक्ष की भूमिका सराहनीय रही।जिलाधिकारी डॉ.त्यागराजन व एसपी सुधीर कुमार पोरिका ने आदेश दिया था कि प्रतिमाएं हर हाल में रविवार को विसर्जित कर दी जाए ताकि मुहर्रम में दूसरे धर्मों के लोगों को परेशानी न हो। हुआ भी ऐसा ही,दोनों धर्म के लोगों ने एक दूसरे की भावनाओं का ख्याल रखा।शांति व सदभाव के बीच दुर्गा पूजा समाप्त हो गया।महलपर,भरावपर,भैंसासुर,नीमगज, पुलपर,खंदक पर,गढ़पर,कमरुद्दीनगंज,सोहसराय,बड़ी पहाड़ी,बनौलिया,भुसट्टा मोहल्ले के लोगो ने विधि-विधान से मां दुर्गे की आरती की। जय माता दी के जयकारे से पूरा फिजा भक्तिमय हो गया। फूलों की वर्षा के बीच आस्था की सरिता में गोते लगा रहे भक्त मां के अंतिम दर्शन कर उनके चरण स्पर्श को बेताब दिखे।आगे आगे माता की सवारी और पीछे सैकड़ों महिलाओं का हुजूम विदाई देने काफी दूर तक गयी।मां दुर्गा की विदाई को लेकर पूरा शहर मायूस था।सुबह से ही शहर में चहल पहल नहीं दिखी।
Top
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.