बागबान के दर्द को समझें,हर दिन फादर्स डे समझ में आएगा…

कार्यालय।बाग़ को जनम देनेवाला बागबान परिवार को जनम देनेवाला पिता, दोनों ही अपने खून पसीने से अपने पौधों को सींचते है, ना सिर्फ अपने पेड़ से, उसके साए से भी प्यार करते है, क्यूँ की उसे उम्मीद है ,एक रोज़ जब वो ज़िन्दगी से थक जायेगा, यही साया उसके काम आएगा।सभी ने बागबान फ़िल्म देखी होगी।मैंने भी देखी।आज फादर्स डे है,सभी लोग अपने पिता के साथ फोटो भी शेयर करेंगे।मैं तो बस अपनी भावनाओं को ही शेयर कर सकता हूँ और वो भी अंकुर जैन की बातों के साथ जो अच्छे ब्लॉगर भी है।पिता बस पिता होता है उसकी तुलना किसी से नहीं है…अलग-अलग स्टेटस से लोग एक इन्सान के स्तर पर तो भिन्न-भिन्न हो सकते हैं पर पितृत्व के स्तर पे नहीं। एक करोड़पति बिजनसमेन या एक झुग्गी के गरीब पिता की पितृत्व सम्बन्धी भावनाओं की ईमानदारी में कोई अंतर नहीं होता, उसके इजहार में भले फर्क हो। हर पुत्र के लिए उसका पिता ही सबसे बड़ा हीरो है। पुत्र के लिए पिता का डर भी बड़ा इत्मिनान भरा होता है,एक अंकुश होता है। प्रायः पिता की हर बात उसे एक बंधन लगती है, पर उस बंधन में भी गजब का मजा होता है।इन सब में पिता को क्या मिलता है।आत्मसंतोष का अद्भुत आनंद। पुत्र के बचपन से जवानी तक की दहलीज पर पहुचने की यादें मुस्कराहट देती है। बेटे की सफलताये खुद की लगती है। बेटे से मिली हार खुशनसीबी बन जाती है।
आश्चर्य होता है कैसे एक इन्सान खुद को किसी के लिए इतना समर्पित कर देता है? कैसे पूरा जीवन किसी और के जीवन को पूर्णता देने में बीत जाता है? सच कहा है- कि भगवान इन्सान को देखने हर जगह नहीं हो सकता था शायद इसलिए उसने मां-बाप को बनाया।लेकिन दुःख होता है कि नासमझ इन्सान के सबसे बड़े हीरो यही मां-बाप समझदार इन्सान के लिए बोझ बन जाते हैं। अपने बुढ़ापे के दिन काटने के लिए उन्हें आश्रम तलाशना होता है। हमारे दोस्तों और नए सगे-सम्बन्धियों के सामने वे आउट-डेटेड नज़र आते हैं।व्हाट्स एप और फेसबुक पर सैंकड़ो दोस्तों का हाल जानने का समय है हमारे पास, पर इतना समय नहीं कि पिता की कमर दर्द या मां की दवा के बारे में पूंछ सके। बुढ़ापे के कठिन दौर में जहाँ सबसे ज्यादा अपनेपन की जरुरत होती है वहां यही बूढ़ा बाप किसी फर्नीचर की तरह पड़ा रहता है। और विशेष तो क्या कहूँ, अपनी संवेदनाओं को झंकृत करने के लिए अमिताभ की फिल्म “बागबान” और राजेश खन्ना की “अवतार” देखिये।अंत में बागबान के एक संवाद के साथ विश्व के सभी पिताओं के चरणों में नमन करता हूँ “मां-बाप कोई सीढ़ी की तरह नहीं होते कि एक कदम रखा और आगे बढ़ गए, मां-बाप का जीवन में होना एक पेड़ कि तरह होता है, जो उस वृक्ष कि जड़ होते हैं उसी पर सारा वृक्ष विकसित होता है।और जड़ के बिना वृक्ष का कोई अस्तित्व नहीं है। इस लिए पिता का दिल को न दुखाएं।

Top
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.