नालंदा कॉलेज के नवनिर्मित भवन का मंत्री ने किया उद्घाटन,कहा-स्टेटमेंट नहीं, एक्शन में है विश्वास

बिहारशरीफ।बिहाएशरीफ स्थित नव निर्मित न्यू अमरनाथ भवन का उद्घाटन शिक्षा व विधि मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा,मगध विवि के कुलपति डॉ. कमर अहसन, एमएलसी नीरज कुमार व कॉलेज के प्राचार्य डॉ. देवकी नंदन सिंह ने संयुक्त रूप से किया।महाविद्यालय के अंतरिम श्रोत से बने इस भवन पर 3 करोड़ रुपये की राशि खर्च किए गए हैं।इस भवन में तीन फ्लोर है जिसमें लिफ्ट लगाने का भी प्रयोजन है।फिलहाल इसमें वोकेशनल कोर्सेस की क्लासेज संचालित की जाएगी।नए भवन का उद्घाटन करने के बाद मंत्री ने कॉलेज स्थित ऑडिटोरियम में छात्रों को संबोधित किया।उन्होंने कहा कि इस कॉलेज में आकर मुझे जितनी खुशी हो रही है उसे मैं शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता।इस कॉलेज का पूरे सूबे में एक नाम है। इस कॉलेज के उत्थान के लिए सरकार जो भी कर सकती है वो किया जाएगा। हम स्टेटमेंट में नहीं, एक्शन में विश्वास करते है।सीएम नीतीश कुमार ने भी शिक्षक दिवस पर कहा था कि जो कार्य सरकार है वो सरकार को करने दें। शिक्षकों का कार्य पढ़ाना है वे ईमानदारी से बच्चों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दे। सरकारी स्कूल का शिक्षक होना व कॉलेज का प्रोफेसर होना गर्व की बात होती है।आपलोगों को जो परेशानी हो रही है उसका ध्यान है हमें। सभी को मिलकर इसका समाधान निकालना होगा।हमने अधिकारियों को स्पष्ट रूप से कहा है कि आप सभी जगह जाएं व निरीक्षण करें। पहले जब इंस्पेक्शन होती थी तो सभी को यह चिंता होती थी कि कोई कमी निकल कर सामने न आ जाए। आज वैसा नहीं है। उन्होंने कहा कि बिहार बदल रहा है। शहर से लेकर गांव तक में बदलाव दिख रही है। सड़के चकचक हुई है।रात में भी लोग भयमुक्त होकर एक जगह से दूसरी जगह जा रहे है। इस कॉलेज के लिए बहुत कुछ करूँगा लेकिन बोलकर नहीं। एमएलसी नीरज कुमार ने सरकार की योजना स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि दो वर्षों के बाद यह कॉलेज 150 वर्ष के गौरवशाली इतिहास को पूरा करेगा। आप पूरे देश में अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाएँगे,ऐसी मेरी आशा है।इस नवरात्रि में सभी प्रण ले कि मन के अंदर के विकार को दूर करेंगे और ज्ञान ग्रहण कर एक अच्छे समाज के निर्माण में अपना योगदान देंगे। कुलपति कमर अहसन ने कहा कि कॉलेज के विकास के लिए जो भी बेहतर होगा उसे किया जाएगा। कॉलेज के प्राचार्य डॉ. डी.एन सिंह ने कॉलेज के इतिहास की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिस ऑडिटोरियम में सभी बैठे हैं उसमें कभी पूर्व राष्ट्रपति वी.वी गिरी,सीने स्टार पृथ्वी राज कपूर,तत्कालीन संचार मंत्री शेर सिंह आ चुके है। पूरे बिहार में नालंदा कॉलेज ही है जिसके ऊपर भारत सरकार ने डाक टिकट जारी किया था। 1870 में सबसे पहले स्कूल की नींव रखी गयी थी। 1920 में इंटर कॉलेज व 1944 में महाविद्यालय के रूप में इसे मान्यता मिली। सबसे पहले यह कोलकाता विवि के अधीन संचालित हुआ।बाद में पटना और 1962 में मगध विवि के अंतर्गत निबंधित हुआ। अब इतने बड़े व ऐतिहासिक पृष्ठभूमि होने के बावजूद इस कॉलेज में शिक्षकों की कमी है। अगले साल 6 शिक्षक रिटायर हो जाएंगे और 20 शिक्षक ही बचेंगे।अब ऐसे में पढ़ाई करवाना एक चुनौती होगी। जितनी उन्नति होनी चाहिए उतना नहीं हुआ।इस मौके पर कॉलेज के संस्थापक स्वर्गीय राय बहादुर एदल सिंह के प्रपौत्र प्रकाश नारायण सिंह,पूर्व प्रिंसिपल व वर्तमान में ए. एन कॉलेज के प्राचार्य एस. के शाही,पटेल कॉलेज के प्राचार्य मजूमदार, जदयू युथ विंग के विनोद कुमार,जदयू नेता शशिकांत टोनी,महमूद बक्खो,युवा जदयू के प्रवक्ता रोहित सिन्हा के अलावे कई लोग मौजूद थे।

Top
Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.